Tag Archive | सौदागर

वस्त्र का नाप शून्य हो तो चलेगा-व्यंग कविता

वस्त्र का नाप शून्य हो तो चलेगा
हवस की मोहब्बत का पैमाना उससे बढ़ेगा
टूटे बिखरे लोगों का मन
मोहब्बत के नाम से ही फड़केगा
खरीददार बहुत हैं जज्बातों के
असल में नहीं मिलते जो
इसलिये तस्वीरों से उनका दिल मचलेगा
बाजार में सजाते हैं सौदागर
मोहब्बत के पैगाम
उसी से ही चलता है उनका काम
ख्वाब दिखाकर ही मिल जाता उनको दाम
अपनी हकीकत से भागते हैं लोग
झूठे दिखावे से उनक चेहरा महकेगा
अगर सच से रखते हो वास्ता
तो नहीं है तुम्हारा रास्ता
मन में चैन रहेगा और दिल में सुकून
पर कोई आदमी तुम्हारे पास नहीं फटकेगा

……………………………..

यह कविता/आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप की अमृत संदेश-पत्रिका’ पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिकालेखक संपादक-दीपक भारतदीप

Advertisements